Tuesday, May 5, 2009

हमने क्या पाया !!!

न जाने क्यो अक्क्सर , ना चाहते हुए भी दिल में ये ख्याल आया है
गुजरी जिन्दगी में हमने , क्या क्या पाया है !
बहुत सोचने पर भी न जाने क्यो, बस दिल में एक ही ख्याल आया है
कि इस पाने के चक्कर में ही , मैंने अपना सब गवाया है
न जाने क्यो अक्क्सर, ना चाहते हुए भी दिल में ये ख्याल आया है
दुनिया के इस फंडे को , हम कभी आजमा न पाये
कि जो मांगने सेना मिले , उसको छीन लो
पर क्या छिनने से कभी , किसी को पाने का सुकून मिल पाया है
न जाने क्यो अक्क्सर ये, न चाहते हुए भी दिल में ये ख्याल आया है
क्या पाना ही सब कुछ होता है , लोगो कि जिन्दगी में
कभी किसी ने क्यो नही सोचा , कि वो क्या दे पाया है

6 comments:

Writer-Director said...

Aisa laga ke kisi dard ko zuban de di hai aapne....hatheli pe thehre huye pani mein agar apna chehra nazar aa jaye to samjhna ke phool apni patyion se bikhra huya nahi hai....Darshan Darvesh

D.P.Mishra said...

bahut sundar........

abhishek said...

khayal kahayal me yeh khayal accha hai ,aapka dosti ke baare me andaaze bayan accha hai , ro ro ke khayalon me, humko bhi bahut rulaya hai dosti nibhane waalon ne.

samir said...

kay baat hai ajj kal kya likh rahi ho lagta hai
bhaut kuch chupake rakha hai tumne appne bare main

"MIRACLE" said...

bahut hi sundar abhivyakti. blog ki duniya mai appka swagat hai.kabhi hamare blog par bhi dastak de.
ek gujarissh hai ki word verification ka jhanjhat hta de.jitna hum log sochte hai utna laabh nahi hota.maeri aur se gujarish hai jaruri baat nahi.

"MIRACLE" said...

"Dashbord se settings mai jaye fir settings se comment mai aur sabse niche show word verification mai 'nahi' chun le....Bus......